बिलासपुर: कबड्डी चैम्पियन कप पर RPM कोटा का कब्जा… जिलाध्यक्ष विजय और सभापति अंकित ने कहा- एशियाई देशों में भारतीय टीम का दबदबा… 

बिलासपुर। कोरमी में तीन दिनों तक चली राज्य स्तरीय कबड्ड़ी प्रतियोगिता समापन धूमधाम से किया गया। राज्य स्तरीय कबड़़्डी प्रतियोगिता में राज्य की कुल 25 टीमों ने हिस्सा लिया। फाइनल मैच कोटा और हिर्री माइन्स के बीच खेला गया। हिर्री को हराकर कोटा की टीम ने कप पर कब्जा किया। कोरमी में लगातार चौथे साल राज्यस्तरीय कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। तीन दिनों तक चले कबड्डी प्रतियोगिता में कुल 25 टीम ने हिस्सा लिया। आरपीएम कोटा की टीम ने फायनल में हिर्री टीम को हराकर कप पर कब्जा किया। 

कप जीतने वाली आरपीएम कोटा की टीम को अतिथियों ने कप के साथ 15 हजार रूपए देकर सम्मानित किया। प्रतियोगिता में दूसरे स्थान पर काबिज हिर्री माइन्स टीम को कप के साथ 10 हजार नगद ईनाम मिला। प्रतियोगिता में तीसरा स्थान फुलवारी को मिला। फुलवारी टीम को कप के साथ सात हजार रूपए मिले। चौथे स्थान पर काबिज कोरमी टीम को ईनाम में 3500 नगद के साथ कप दिया गया। 

प्रतियोगिता में बेस्ट राइडर का ईनाम हिर्री माईनस बोड़सरा के हरिदास को 2100 रूपए के साथ कप दिया गया। बेस्ट केचर 1100 और कप फुलवारी के जगमोहन नेताम को दिया गया।  आल राउन्ड प्रदर्शन के लिए कोटा के वीरेन्द्र को सम्मानित किया गया। वीरेन्द्र को 1100 नगद और कप दिया गया।   प्रतियोगिता के समापन मौके पर गरिमामय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को मुख्य अतिथि  विजय केशरवानी,  विशिष्ट अतिथि अंकित गौरहा सभापति जिलापंचायत ने संबोधित किया। 

अपने संबोधन में विजय केशरवानी और अंकित गौरहा ने खिलाड़ियों को जमकर प्रोत्साहित किया। विजय और अंकित ने कहा कि समय के साथ खेल मानव जीवन का अभिन्न अंग है। और मनोरंजन का साधन भी। कबड़्डी खेल का जन्म भारत से ही है। पिछले 35 सालों से एशिया में आयोजित होने वाली सभी प्रकार की कबड्डी प्रतियोगिताओं पर भारत का वर्चस्व है।      

विजय और अंकित ने कहा कि कबड्डी का खेल शारीरिक चपलता और स्वास्थ्य से जुड़ा है। यही कारण है कि समय के साथ कई प्रकार के खेलों का जन्म हुआ। आज भी कबड़्डी का स्थान भारतीय परम्परा में अहम है। सेना पुलिस में कबड़़्डी खिलाड़ियों को बहुत सम्मान के साथ देखा जाता है। दोनों नेताओं ने खिलाडि़यो को उत्साहित करते हुए कहा कि कबड़्डी में हमारी चैम्पियन परम्परा को ना केवल कायम रखना है। बल्कि जिला प्रदेश देश और एशिया में सफलता का परचम को फहराते रहना है।  

इस दौरान मंच पर अशोक अग्रवाल,जनपद सदस्य अजय घृतलहरे,कोरमी सरपंच मनोज बंजारे,उप सरपंच शिवा धुरी मौजूद थे। कार्यक्रम में स्थानीय गणमान्य नागरिक जेठू धुरी,देवकुमार धुरी  पीताम्बर धुरी,चन्द्र प्रकाश धुरी प्रोफेसर, महेंद्र यादव की उपस्थिति देखने को मिली।  मुख्य अतिथि और कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे दोनों नेताओं ने प्रतियोगिता में राज्य स्तरीय रैफरी बद्री राजपूत घनश्याम राजपूत  बसंत पटेल कमलेश यादव जितेंद्र सराफ गजेन्द्र निर्मलकर ,महिला रैफरी अंजिता आदिले ,सेवती काछी के योगदान को सराहनीय बताया। 

इस दौरान कबडडी प्रतियोगिता के आयोजक मण्डल अध्यक्ष गौरीशंकर यादव ने उपस्थित अतिथियों,गणमान्य लोगों के अलावा राज्य के कोने कोने से पहुंचे कबड्डी खिलाडियों के प्रति आभार जाहिर किया। इस दौरान  कार्यक्रम प्रभारी संतोष यादव व्यवस्थापक कोमल धुरी भीमा धुरी, रविशंकर यादव संत यादव,भुनेश्वर, जितेंद्र ,बाबायादव,ईश्वर धुरी ,रिंकू यादव,आयुष यादव, विकाश यादव, सुमित यादव रामायण यादव, विक्की, मुकेश यादव, अमित धुरी  ,राजेश पात्रे ,राजेन्द्र मंगेश्कर, सुरेश करमाकर भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.