फोटो में खुबसूरती देख पहुंचे सैलानी शर्मिंदा होकर लौट रहे… आखिर क्यों खुड़िया अब तक पर्यटन नहीं बन सका…

मुंगेली/ गोल्डी यादव, जिला ब्यूरो। मानसून में अपनी प्राकृतिक खुबसूरती से सैलानियों को आकर्षित करने वाले खुड़िया डैम में इन दिनों मेले जैसी भीड़ है। वजह है सोशल मीडिया पर वायरल यहां की आकर्षक तस्वीरें, जिन्हें देख सैलानी खुद को यहां आने से रोक नहीं पा रहे। लेकिन आने के बाद सैलानी यहां से मायूस और शर्मिंदा होकर लौट रहे। आखिर क्यों ऐसा हो रहा है, यहां जानेंः

पर्यटन के लिए जो आवश्यक है उसी का अभाव-
सड़क, दिशानिर्देशक बोर्ड, सुरक्षा, भोजन और ठहरने की व्यवस्था से कोई स्थान पर्यटन बनता है, लेकिन खुड़िया में इन्हीं आवश्यक तत्वों का पूर्णतः अभाव है।

परिवार सहित आयेंगे तो होंगे शर्मिंदा-
ज्यादातर सैलानी युवा हैं जो मनोरंजन के लिए शोर-शराबा करते नजर आएंगे, शराबखोरी करते मिलेंगे। जिन्हें लड़कियों पर छिंटाकशी करते देखा जा सकता है। डिस्पोजल, बोतल और पाउच का जमावड़ा देख फैमिली सहित पहुंचे सैलानी शर्मिंदा होकर यहां से लौट रहे।

 

सड़क की जगह पगडंडी-
दूर-दराज के सैलानी फोटो में खुड़िया की खुबसूरती देख सोचते हैं कि सड़क पर खुशनूमा सफर होगा लेकिन यहां आकर उन्होंने जाना कि यहां तो सड़क ही नहीं है, नहर किनारे की पगडंडियों से होकर खुड़िया जाना है, जिसमें गहरे गड्ढे हैं, गंदा पानी लबालब भरा है।

 

बारिश में खड़े होने की जगह नहीं-
मानसून ही प्राकृतिक खुबसूरती में निखार लाता है लेकिन यहां जरा सी बारिश हुई तो सैलानियों को कहीं छत-छाया नहीं है। खुद को भीगने से बचाने के लिए खड़े होने तक की जगह नहीं है।

 

यदि स्थिति ऐसी रही तो जल्द ही खुड़िया कचराखाने और अपराध के केंद्र में तब्दील हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.