रावत नाच महोत्सव समिति के सदस्यों ने लिया निर्णय… शासन की गाईडलाइन के अनुसार होगा कार्यक्रम…गड़वा बाजा का रेट 7० से 9० हजार 

बिलासपुर। 43 वें रावत नाच महोत्सव का आयोजन पांच दिसंबर को लाल बाहदूर शास्त्री स्कूल मैदान में आयोजित होगा आयोजन समिती की बैठक में निर्णय लिया गया। कि गोलो को इस बार शासन के नियम के साथ सामिल होने को लेकर विस्तर से चर्चा की गई।

रावत नाच महोत्सव को लेकर महापौर रामशरण यादव समिति के सदस्य के साथ कलेक्टर से चर्चा के उपरांत नियमो को ध्यान में रखते हुए आयोजन की सहमति बन महोत्सव को लेकर देवकीनंदन सभा गृह में समिति के पदाधिकारियों और गोलों के मुखियां के उपस्थिती में बैठक हुई रावत नाच महोत्सव समिति की संयोजक डॉ. कालीचरण यादव ने बताया कि महोत्सव शासन के गाईडलाइन को पालन करते हुए किया जाएगा। बैठक में महापौर रामशरण यादव ने भी सुझाव दिए साथ ही आरजी यादव रिटार्यट टीआई धन्नू लाल यादव, सतीश यादव, जशवंत यादव, चंद्रिका यादव, रामचंद यादव, विजय यादव कन्हैया यादव, संतोष यादव, मनीराम यादव, गौंकरण यादव सहित अन्य सदस्य उपस्थित रहें।

गुरुवार को एकादश से देवारी

रावत नाच महोत्सव समिति के संयोजक डॉ.कालीचरण यादव ने बताया यादव समाज गुरुवार को एकादशी मनाएगा। इस बार एकादशी दो दिन पड़ रही है। आस-पास के नर्तक और वादक बुधवार को ही बाजार पहंुच गए थ्ो। रावत नाच के लिए कुछ गांव के लोगो ने बाजा तय कर लगा ले गए है। इस दौरान रावत नाच महोत्सव के सदस्य वहां पहंुच कर रावत नाच को लेकर कोरोना के लिए जारी गाईड लाइन के बारे में बताया।

15 गांव के लोगो ने गडवा बाजा लगाए 7० से 9० हजार रुपए में तय किया सौदा

बुधवार को गोड़पारा व शनिचरी बाजार में गडवा बाजा वाले दल के साथ पहंुचे जहां रावत नाचने वाले 15 गांव के यदुवंशी ने बाजा तय किया। वहीं एकादशी दो दिन होने के कारण गुरुवार को भी अधिकांश गडवा बाजा लगाने वाले गोल के प्रमुख और समाज के मुखिया पहंुचेगे। दस दिनों के लिए बाजा का रेट 7० से 9० हजार रुपए के बीच तय किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.