चांटापारा एनीकट निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की होगी जांच… मंत्री ने सदन में की घोषणा… विधायक शैलेश पांडेय ने विधानसभा में उठाया था मामला…

रायपुर। बिलासपुर जिले के चाटापारा एनिकट निर्माण में हुई अनियमितता की जांच कराई जाएगी, इस बात की घोषणा आज विधानसभा में जल संसाधन मंत्री रविद्र चौबे ने की। आज विधानसभा में विधायक शैलेश पांडेय व डॉ. रेणु जोगी ने अनियमितता को लेकर ध्यानाकर्षण लगाया।

बिलासपुर जिले में बेलगहना के पास चाटापारा एनिकट स्थित है। इस एनिकट में गड़बड़ी की शिकायत की जा रही थी। एक माह पूर्व बिलासपुर के विधायक शैलेश पांडेय ने मंत्री रविद्र चौबे निर्देश पर एनिकट का निरीक्षण करने गए। प्रारंभिक तौर पर उन्होंने पाया कि एनिकट निर्माण में भारी गड़बड़ी की गई है। आज विधानसभा में कांग्रेस विधायक धनेंद्र साहू ने गरियाबंद जिले में जल संसाधन विभाग के द्वारा सवा 4 करोड़ रुपए के निर्माण कार्यों को पीस वर्क के जरिए कराए जाने का मामला उठाया था। जल संसाधन मंत्री रविंद्र चौबे ने इस पर सदन को आश्वस्त किया कि पहले मामले का परीक्षण कराया जाएगा और सदस्य के आरोप सही पाए गए तो दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मंत्री ने कहा कि बड़े कार्य पीस वर्क से कराए जाने का कोई प्रावधान नहीं है, इसका उल्लंघन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

विधायक देवव्रत सिंह ने प्रदेश के जलाशयों में मछली पालन के लिए मछुआ सहकारी समितियों को आवंटित किए जाने के लिए में गड़बड़ी के मामले को उठाया। विधायक दलेश्वर साहू, छन्नी साहू एवं अन्य सदस्यों ने भी इसी तरह के कई मामलों को उठाया। आसंदी से चरणदास महंत ने पूरे प्रदेश में इस तरह की गड़बड़ियों का उल्लेख करते हुए मंत्री को जांच कराने का निर्देश दिया।

मंत्री रविंद्र चौबे ने विभाग के उप सचिव स्तर के अधिकारी से मामलों की जांच कराने का एलान किया। अतिवृष्टि से उत्पन्न भयावह स्थिति का मामला जांजगीर जिले के विधायकों ने उठाया। डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, सौरभ सिंह और केशव चंद्रा ने मामला उठाते हुए बचाव राहत कार्य तेज करने और संबंधितों को मुआवजा देने की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.